Topic

[:en]Forests[:hi]वन[:ne]वन[:bn]বনাঞ্চলসমূহ [:ur]جنگلات [:]

  • Colorful houses and a green pine forest in Himalaya mountains in Dharamsala, India. Pine wood and houses on background

    क्या भारत और शहरी वन विकसित कर सकता है?

    जुलाई 16, 2020

    राजनीतिक इच्छा शक्ति की कमी और पुराने नियमों की वजह से शहरी वन विकसित करने में दिक्कतें आ रही हैं लेकिन कई अच्छे और सफल उदाहरण भी हैं, उनसे सीखकर शहरी वन विकसित किये जाने चाहिए।

  • Part of a degraded forest in north Kashmir's Bandipora district (Photo --- Athar Parvaiz)

    कश्मीर के वनों पर चल रही है कुल्हाड़ी

    दिसम्बर 12, 2019

    वन सलाहकार समिति ने 33 दिनों के भीतर 727 हेक्टेयर वन भूमि के डायवर्जन की अनुमति दे दी। इससे वन क्षेत्र के भीतर आने वाले पेड़ों पर कुल्हाड़ी चलने का रास्ता साफ हो गया।

  • भारी जनविरोध के चलते जखोल-सांकरी जलविद्युत परियोजना की जनसुनवाई टली

    अगस्त 06, 2018

    उत्तराखंड में जल विद्युत परियोजनाओं को लेकर स्थानीय लोगों का विरोध जगजाहिर है। प्रशासन और बांध बनाने वाली कंपनियां अक्सर लोगों को आधी-अधूरी सूचनाएं देकर अनापत्ति प्रमाण पत्र लेती रही हैं। लेकिन वक्त के साथ-साथ लोगों में जागरूकता बढ़ी है। पर्यावरण, पहाड़, जल, जंगल को बचाने वाले संगठनों ने लोगों को जागरूक करने में अहम भूमिका निभाई है। इसी का नतीजा है कि ग्रामीणों की भारी विरोध के चलते उत्तरकाशी जिले में जखोल-सांकरी जल विद्युत परियोजना की जनसुनवाई रद्द करनी पड़ी।

  • वनों की रक्षा करने वालों के जीवन चित्रण की एक पहल

    जुलाई 31, 2018

    सोनाली प्रसाद ने अपने प्रोजेक्ट ‘रेंजर-रेंजर’ के बारे में www.thethirdpole.net से बात की। इस प्रोजेक्ट के माध्यम से वह भारत के वनरक्षकों और रेंजर्स की चुनौतियों और उनके जीवन का चित्रण कर रही हैं।

  • Shahzad Qureshi standing inside his urban forest [image by: Zofeen T. Ebrahim]

    कराची के दिल में बसाया गया एक जंगल

    अप्रैल 23, 2018

    शहर के बीच में प्रकृति का अनुसरण करने और वनों को बढ़ावा देने की जापानी तकनीक को पाकिस्तान, भारत और अन्य जगहों पर अपनाया जा रहा है। ये बड़े शहरों में तेजी से बढ़ती हुई गर्मी का सामना करने का एक तरीका है।

  • उत्तराखंड के गांवों में पानी के लिए अब दूर तक चलने की जरूरत नहीं

    जनवरी 29, 2018

    वर्षाजल का संचयन एवं प्राकृतिक जलस्त्रोतों के पुनर्जीवित होने से हिमालय के इस भाग में जगल में लगने वाली आग की घटनाओं में भी कमी आ रही है।

  • फसल ही नहीं, तो उत्सव कैसे मनाएंगे?

    दिसम्बर 12, 2016

    मणिपुर के ग्रामीणों ने बांधों की वजह से क्या-क्या परेशानियां उठाई हैं, विस्तार से बता रहे हैं एक एक्टिविस्ट के तौर पर उनका सामना करने वाले डोमिनिक ह्यूमी काशुंग