icon/64x64/climate जलवायु

आईपीसीसी की अगली रिपोर्ट में क्या समायोजित होने जा रहा है?

हम यहां बता रहे हैं कि इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) अपनी अगली रिपोर्ट में क्या समायोजित करने जा रहा है? आईपीसीसी क्या है? और कैसे यह जलवायु परिवर्तन को सीमित करने और उसके प्रति अनुकूलन के लिए किए जाने वाले प्रयासों और निष्क्रियता के संभावित प्रभावों को दर्शाता है।
<p>2019 में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में आईपीसीसी के सदस्यों और मोनाको के प्रिंस अल्बर्ट द्वितीय के साथ आईपीसीसी के अध्यक्ष होसुंग ली (फोटो: रॉयटर्स / Alamy)</p>

2019 में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में आईपीसीसी के सदस्यों और मोनाको के प्रिंस अल्बर्ट द्वितीय के साथ आईपीसीसी के अध्यक्ष होसुंग ली (फोटो: रॉयटर्स / Alamy)

इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज, या आईपीसीसी, 1988 में, विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्ल्यूएमओ) और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम द्वारा बनाया गया एक वैज्ञानिक निकाय है। इसका लक्ष्य सरकारों को नवीनतम जलवायु विज्ञान के बारे में सूचित करना है, और यह बताना है कि आने वाले दशकों में जलवायु परिवर्तन का दुनिया पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

वर्तमान में, आईपीसीसी के 195 सदस्य देश हैं और यह दुनिया भर के वैज्ञानिकों को एक मंच पर लाता है जो स्वेच्छा से इसके काम में योगदान करते हैं। आईपीसीसी मूल शोध नहीं करता है। इसके बजाय, सैकड़ों वैज्ञानिक, उपलब्ध वैज्ञानिक साहित्य का परीक्षण करते हैं और इसे व्यापक मूल्यांकन रिपोर्ट में बदल देते हैं। ये रिपोर्टें बताती हैं कि जलवायु परिवर्तन किस कारण से होता है, जमीन पर इसके क्या परिणाम हो सकते हैं, और कैसे शमन (जलवायु परिवर्तन को सीमित करना) और अनुकूलन लोगों को सबसे बुरे प्रभावों से बचाने में मदद कर सकता है।

आईपीसीसी की अगली रिपोर्ट में क्या शामिल होगा?

आईपीसीसी रिपोर्ट का नवीनतम सेट इसके तीन कार्य समूहों द्वारा छठे मूल्यांकन चक्र का प्रतिनिधित्व करता है। यह छठी आकलन रिपोर्ट (एआर6 के रूप में जानी जाती है), आज के सबसे उन्नत जलवायु अनुसंधान और परिष्कृत जलवायु मॉडल का परीक्षण करती है। यह प्रत्येक कार्य समूह द्वारा संकलित तीन किस्त में सामने आएगी। वर्किंग ग्रुप I की किस्त अगस्त 2021 में प्रकाशित हुई थी। एक सिन्थेसिस रिपोर्ट अक्टूबर 2022 में आने की उम्मीद है।

28 फरवरी, 2022 को जारी होने वाली एआर6 रिपोर्ट का दूसरा भाग, समुदायों और पारिस्थितिक तंत्र के लिए जलवायु परिवर्तन और अनुकूलन विकल्पों के प्रभावों को देखेगा। रिपोर्ट की रूपरेखा बताती है कि अर्थशास्त्र और सामाजिक विज्ञान, पिछली रिपोर्टों की तुलना में बड़ी भूमिका निभाएंगे। जलवायु परिवर्तन के अनुकूलन में सामाजिक न्याय की महत्वपूर्ण भूमिका को उजागर करने की उम्मीद है।

यह स्थलीय,  मीठा पानी, समुद्री और तटीय पारिस्थितिकी प्रणालियों के साथ-साथ शहरों, बुनियादी ढांचे, वैश्विक स्वास्थ्य और आजीविका सहित प्रणालियों की एक विस्तृत श्रृंखला पर विचार करेगा। रिपोर्ट का दूसरा खंड क्षेत्रीय और उप-क्षेत्रीय जलवायु को देखेगा, अतिसंवेदनशीलता और अनुकूलन के अवसरों की पहचान करेगा। अंतिम भाग विकास रणनीतियों की पहचान करेगा जो अनुकूलन और शमन को जोड़ती है, वित्त और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का भी परीक्षण करती है। मार्च में, आईपीसीसी, वर्किंग ग्रुप III द्वारा संकलित एआर6 रिपोर्ट का तीसरा भाग जारी करेगा, जो वैश्विक उत्सर्जन प्रवृत्तियों और उन्हें कम करने के संभावित तरीकों का जायजा लेगा।

आईपीसीसी के कार्यकारी समूह क्या हैं?

आईपीसीसी में तीन कार्य समूह शामिल हैं, जो जलवायु विज्ञान और जलवायु परिवर्तन प्रतिक्रिया के विभिन्न पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं। कार्य समूह I जलवायु परिवर्तन की भौतिकी को देखता है; कार्य समूह II जलवायु परिवर्तन के प्रभावों और अनुकूलन की जांच करता है; और कार्य समूह III जलवायु परिवर्तन शमन पर केंद्रित है। तीनों कार्य समूह अलग-अलग रिपोर्ट जारी करते हैं, जिन्हें बाद में एक सिन्थेसिस रिपोर्ट में संकलित किया जाता है।

क्या आईपीसीसी तय करती है कि सरकारें क्या कर सकती हैं या क्या नहीं? 

आईपीसीसी की तरफ से यह नहीं कहा जा सकता कि सरकारें उसके निष्कर्षों पर कैसे कार्य करें। इसके आकलन ‘नीति-प्रासंगिक’ हैं, लेकिन ‘नीति निर्देशात्मक’ नहीं हैं, जिसका अर्थ है कि वे नीति निर्माताओं को कुछ शमन और अनुकूलन कार्यों के संभावित परिणामों के बारे में सूचित करते हैं, लेकिन उन्हें यह नहीं बताते कि क्या करना है।

विभिन्न आईपीसीसी परिदृश्य क्या हैं?

आईपीसीसी रिपोर्ट्स का मतलब महज संभावित घटनाओं की बात करना भर ही नहीं है। इसके बजाय, कि वे भविष्य के कई संभावित ‘परिदृश्यों’ का वर्णन करें जिसमें जलवायु परिवर्तन के प्रभाव, विभिन्न कारकों की वजह से अलग-अलग हों, वे मुख्य रूप से मानवीय गतिविधियों की बात करते हैं।

ये काल्पनिक परिदृश्य, किसी विशेष परिणाम की संभावना की भविष्यवाणी नहीं करते हैं। इसके बजाय, वे जलवायु मॉडल का उपयोग यह वर्णन करने के लिए करते हैं कि कैसे कुछ कारकों को बदलना, जैसे कि वातावरण में ग्रीनहाउस गैसों की सांद्रता, अल्प या दीर्घकाल में विभिन्न पर्यावरणीय और सामाजिक प्रभाव पैदा कर सकती है।

कितने आईपीसीसी परिदृश्य हैं? वे समय के साथ कैसे बदल गए हैं? 

आईपीसीसी ने 2014 में अपनी पांचवीं आकलन रिपोर्ट (एआर5) में अपने सबसे प्रसिद्ध परिदृश्यों, रेप्रेजेंटेटिव कंसनट्रेशन पाथवे (आरपीसी) को लॉन्च किया। चार आरपीसी, उन परिदृश्यों का प्रतिनिधित्व करते हैं जिनमें वातावरण में ग्रीनहाउस गैसों की विभिन्न सांद्रता मौजूद हैं। आईपीसीसी परिदृश्य, वैश्विक अर्थव्यवस्था और मानव गतिविधि में परिवर्तन को प्रतिबिंबित करने के लिए समय के साथ विकसित हुए हैं, जो वातावरण में जारी ग्रीनहाउस गैसों की मात्रा और प्रकार निर्धारित करते हैं। ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लिहाज से देखें तो आईपीसीसी परिदृश्य एक काल्पनिक भविष्य (आरसीपी 2.6 के रूप में जाना जाता है) के संदर्भ में है। इसमें 2100 तक, पूर्व-औद्योगिक स्तरों से 2 डिग्री सेल्सियस के भीतर ग्लोबल वार्मिंग को बनाए रखते हुए उन स्थितियों में आक्रामक शमन रणनीतियों को लागू किया जाता है जहां ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन लगातार बढ़ रहा है जिससे यह तापमान 3.3 डिग्री सेल्सियस और 5.4 डिग्री सेल्सियस के बीच पहुंच सकता है।

वैज्ञानिक बाद के परिदृश्य, जिसे आरसीपी 8.5 के रूप में जाना जाता है, को लेकर आगाह करते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि उत्सर्जन का प्रक्षेपवक्र एक जैसा ही नहीं रहेगा, जैसा कि अक्सर दावा किया जाता है। वैज्ञानिकों एक ऐसे भविष्य का वर्णन करते हैं जिसमें मानव जीवाश्म ईंधन का उपयोग कम करने की जगह वर्तमान की तुलना में अधिक जीवाश्म ईंधन जलाए। ये परिदृश्य वैज्ञानिकों को 2100 तक बढ़ते तापमान और अन्य पर्यावरणीय परिणामों के संदर्भ में संबंधित प्रभावों को समझने में मददगार हैं।

समानांतर में, आईपीसीसी के वैज्ञानिकों ने पांच पूरक परिदृश्यों, शेयर्ड सोसियोइकनॉमिक पाथवेज (एसएसपी) के एक सेट पर भी काम किया है, जो छठी आईपीसीसी आकलन रिपोर्ट (आईपीसीसी वर्तमान में काम कर रहा है) में शामिल है। वहीं, आरपीसी ग्रीनहाउस गैसों और अन्य तापमान-परिवर्तनकारी भौतिक और रासायनिक परिवर्तनों को देखते हैं, एसएसपी पांच अलग-अलग आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक आख्यानों का निर्माण करते हैं। पहली बार, वे जलवायु परिवर्तन पर भविष्य की कार्रवाई में योगदान करने वाले कारकों का अधिक विस्तृत और मजबूत मूल्यांकन करने के लिए असमानता, राष्ट्रवाद में वृद्धि, शिक्षा में निवेश और प्रौद्योगिकी के विकास जैसे कारकों पर नजर है।

जलवायु अनुमानों और भविष्यवाणियों में क्या अंतर है?

मौसम विज्ञान में, भविष्यवाणी एक अल्पकालिक पूर्वानुमान है कि वर्तमान आंकड़ों के आधार पर कुछ महीनों या वर्षों में मौसम और जलवायु की स्थिति कैसे बदलेगी। वैज्ञानिक, मौसम केंद्रों, राडार और उपग्रहों से उपलब्ध आंकड़ों को संसाधित करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग करते हैं। जलवायु अनुमान, हमें यह नहीं बताते हैं कि एक निश्चित पर्यावरणीय परिवर्तन होगा या नहीं, लेकिन यह पता लगाने के लिए कि जलवायु कुछ इनपुट पर कैसे प्रतिक्रिया करेगा, कंप्यूटर मॉडल का उपयोग किया जाता है जिसे फोर्सिंग कहा जाता है।

उदाहरण के लिए, वे अनुमान लगा सकते हैं कि यदि मनुष्य वातावरण में एक निश्चित मात्रा में ग्रीनहाउस गैसों को बढ़ाता है तो समुद्र की सतह का तापमान कितना बढ़ जाएगा। संक्षेप में, वे मानव गतिविधि के अब तक के प्रभावों की भविष्यवाणी करने के बजाय, भविष्य की मानव गतिविधि के प्रभावों की संभावना व्यक्त करते हैं।