Monthly Archives: जुलाई 17, 2014

  • गंगा-यमुना का कायाकल्प अभी दूर की कौड़ी है

    जुलाई 17, 2014

    देश की दो प्रमुख नदियों गंगा और यमुना की सफाई की बारे में बहुत जोर-शोर से चर्चा हो रही है। बेहद प्रदूषित इन दोनों नदियों के दिन बहुरने की क्या उम्मीदें हैं, इस पर यमुना जिये अभियान के संयोजक मनोज मिश्र का विश्लेषण।

  • हवा का यह स्पंदन “इक्विनो” शायद सूखे से राहत दिला जाए

    जुलाई 17, 2014

    हाल ही में खोजी गई हिंद महासागर में होने वाली एक बड़ी वायुमंडलीय घटना इक्विनो, में क्षमता है कि यह अल नीनो के कारण मॉनसून को होने वाली क्षति की भरपाई कर दे. अल नीनो के साल को सूखे वाला साल माना जाता है लेकिन कई बार ऐसा हुआ कि अल नीनो के प्रभाव वाला साल सूखाग्रस्त नहीं रहा. आखिर ऐसा क्यों होता है, इक्विनो की खोज के बाद साफ होने लगा है.

  • लकड़ी और उपले से खाना पकाने के चलते मर रहे लाखों भारतीय

    जुलाई 16, 2014

    दो तिहाई से ज्यादा भारतीय परिवार खाना पकाने के लिए अब भी लकड़ियों और उपलों का इस्तेमाल करते हैं। इस वजह से घरों के भीतर जबरदस्त वायु प्रदूषण होता है। नतीजतन हर साल लाखों लोग मौत के मुंह में समा जाते हैं।